In Stock
Ramayana

Vilmikiya Ramayan Satik Part - III (Telugu)

  • AuthorMaharshi Valmiki
  • SKU1745
  • Language Note: Telugu
  • Time Status: 2000s -- 21st century
₹ 300.00

Shipping charges will be applied on the basis of your cart value.

श्रीमद्वाल्मीकीय रामायण ग्रन्थाकार—त्रेतायुगमें महॢष वाल्मीकिके श्रीमुखसे साक्षात् वेदोंका ही श्रीमद्रामायणरूपमें प्राकट्य हुआ था, ऐसी आस्तिक जगत्की मान्यता है। अत: श्रीमद्रामायणको वेदतुल्य प्रतिष्ठïा प्राप्त है। धराधामका आदिकाव्य होनेके कारण इसमें भगवान्के लोकपावन चरित्रकी सर्वप्रथम वाङ्मयी परिक्रमा है। इसके एक-एक श्लोकमें भगवान्के दिव्य गुण, सत्य, सौहार्द, दया, क्षमा, मृदुता, धीरता, गम्भीरता, ज्ञान, पराक्रम, प्रजा-रंजकता, गुरुभक्ति, मैत्री, करुणा, शरणागत-वत्सलता-जैसे अनन्त पुष्पोंकी दिव्य सुगन्ध है। मूलके साथ सरस हिन्दी अनुवादमें दो खण्डोंमें उपलब्ध, सचित्र, सजिल्द।

  • Language Note: Telugu
  • Time Status: 2000s -- 21st century